विराट टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करते तो बेहतर होता

विराट टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करते तो बेहतर होता


भारत और इंग्लैंड के बीच 5 टेस्ट मैचों की सीरीज का तीसरा मुकाबला हेडिंग्ले (लीड्स) में खेला जा रहा है। इंग्लैंड ने दूसरे दिन स्टंप्स तक अपनी पहली पारी में 8 विकेट खोकर 423 रन बना लिए हैं। इंग्लैंड ने पहली पारी के आधार पर 345 रन की बढ़त हासिल कर ली है।

भारत की पहली पारी सिर्फ 78 रनों पर सिमट गई थी। कमेंटेटर सुशील दोषी ने अपने पॉडकास्ट में इंग्लैंड की टीम और कप्तान जो रूट की जमकर तारीफ की। उन्होंने यह भी कहा कि विराट कोहली अगर टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी चुनते तो वह बेहतर फैसला साबित हो सकता था।

जो रूट ने सीरीज का तीसरा शतक जमाया
इंग्लैंड के कप्तान जो रूट का शानदार फॉर्म जारी है। उन्होंने सीरीज में अपनी तीसरी शतकीय पारी (121 रन) खेली। उन्होंने अपने टेस्ट करियर में अब तक 23 शतक जमा लिए हैं। दोषी ने कहा कि भारतीय बॉलर्स को पता नहीं होता कि वे रूट को कैसे आउट करें। उनका फुटवर्क बहुत ही निर्णायक होता है। वे कनफ्यूजन में नहीं होते हैं। टाइमिंग के भी वे मास्टर हैं और कुल मिलाकर यह साल उनके लिए बहुत अच्छा जा रहा है।

रूट से पहले इंग्लैंड के दोनों ओपनर्स रोरी बर्न्स और हसीब हमीद ने अर्धशतक जमाए। उनके बाद, 3 साल बाद टेस्ट क्रिकेट में वापसी कर रहे, डेविड मलान ने भी अर्धशतकीय पारी खेली। दोषी ने मलान की भी तारीफ की।

टीम इंडिया को खली अश्विन की कमी
दोषी ने कहा कि मैच के दूसरे दिन पिच बहुत आसान खेली। पहले दिन जिस तरह गेंद स्विंग और सीम हो रही थी, वैसा कुछ भी दूसरे दिन देखने को नहीं मिला। जब तक बल्लेबाजों ने गलती नहीं कि भारत को विकेट नहीं मिले। इन परिस्थितियों में भारत को ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन की कमी बहुत ज्यादा खली। अश्विन बल्लेबाजों को लगातार दबाव में रखते हैं और अगर बल्लेबाज बहुत अनुभवी न हो तो उसका विकेट काफी जल्दी ले लेते हैं। जब तेज गेंदबाज विकेट नहीं ले पा रहे हों तो ऐसे में टीम में विकेट टेकिंग स्पिनर का होना जरूरी है।

भारत के लिए मुकाबले में टिके रहना काफी मुश्किल
दिग्गज कमेंटेटर ने कहा कि टीम इंडिया के लिए मैच में टिके रहना काफी मुश्किल होगा। तीसरे दिन से पिच में असामान्य उछाल देखने को मिल सकती है। इससे इंग्लैंड के ऑफ स्पिनर मोइन अली भी खतरनाक हो सकते हैं। इंग्लैंड के तेज गेंदबाजों की चुनौती तो पहले की तरह बरकरार रहेगी ही।