सरकारी तालाब और ग्राम समाज की जमीन पर दबंगों ने किया अवैध कब्जा

सरकारी तालाब और ग्राम समाज की जमीन पर दबंगों ने किया अवैध कब्जा


सुरेन्द्र सिंह भाटी@बुलंदशहर के ब्लॉक लखावटी क्षेत्र के गांव लोहरका के लेखपाल के संरक्षण में गांव के प्रधान और कुछ लोग सरकारी तालाब पर अवैध तरीके से कर रहे कब्जा। मामले की शिकायत डीएम से कर कार्रवाई की मांग की।
ब्लॉक लखावटी क्षेत्र के लोहरका गांव निवासी दिनेश कौसिक ने डीएम को दी शिकायत में कहा कि गांव में 1जुलाई से 18 जुलाई तक तालाबों की पेमाइश कर किसानो से तालाबो पर किया अवैध कब्जा मुक्त कराये गए थे l

और जिनको ग्राम प्रधान की सुपुर्दगी में दे दिया गया परन्तु 15 जुलाई के बाद ग्राम प्रधान व हल्का लेखपाल द्वारा उक्त तालाब की भूमि पर दबंग एंव हेकड़ किस्म के लोगों का पुन’ कब्जा करा दिया गया है और उक्त तालाबों में घान की पौध लगा दी गयी है. जिसका ग्राम प्रधान एंव हल्का लेखपाल को उक्त तालाबों पर पुनः कब्जा कराने एंव धान की फसल लगाने का कोई कानूनी अधिकार प्राप्त नहीं है l

जब प्रार्थी ने हल्का लेखपाल एव ग्राम प्रधान से तालाबों पर पुनः कब्जा कराने का विरोध किया तो उक्त ग्राम प्रधान आगबबूला हो गया और ग्राम प्रधान ने कहा कि मैं इन तालाबों का मालिक हूँ. में जो चाहूंगा वह करूँगा। तुझे जो करना है कर ले।प्रार्थी ने जिलाधिकारी को दिए प्रार्थना पत्र में कहा है कि प्रार्थी ग्राम लौहरका परगना तहसील व जिला बुलंदशहर छेत्र का शान्ति प्रिय विवासी है तथा समाज सेवी व्यक्ति है प्रार्थी के ग्राम लौहरका में कुल रकबा 53390 है० l

मूल कागज़ात में तालाब के रूप में दर्ज है जिसकी खतौनी की प्रतिलिपि प्रार्थना-पत्र के साथ सलण्ण है. जिस पर हल्का लेखपाल द्वारा व प्रधान द्वारा कहा गया कि में जिसका चाहूंगा उसका कब्जा कराऊंगा मेरी कहीं भी शिकायत कर ले कोई मेरा कुछ नहीं बिगाड़ सकता है प्रार्थी ने मजबूर होकर एक प्रार्थना पत्र जिलाधकारी को दिया है और कहा कि श्रीमान से प्रार्थना है कि उपरोक्त तथ्यों एंव परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए उक्त तालाबों में खड़ी फसल को जुतवाकर कब्जा मुक्त कराते हुए अपराधियों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही करते हुए न्याय दिलवाया जाये।